Surya Dev Ji Aarti : सूर्य देव आरती

0
535
Surya Dev Ji Aarti
Surya Dev Ji Aarti

ॐ जय सूर्य भगवान l जय हो तिनकर भगवान l
जगत के नेत्र स्वरूपा l तुम हो त्रिगुणा स्वरूपा l धरता सबही सब ध्यान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
सारथी अरुण है प्रभु तुम l श्वेता कमालाधारी l तुम चार भुजा धारी l
अश्वा है साथ तुम्हारे l कोटिॐ जय सूर्य भगवान l जय हो तिनकर भगवान l
जगत के नेत्र स्वरूपा l तुम हो त्रिगुणा स्वरूपा l धरता सबही सब ध्यान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
सारथी अरुण है प्रभु तुम l श्वेता कमालाधारी l तुम चार भुजा धारी l
अश्वा है साथ तुम्हारे l कोटि किराना पसारे l तुम हो देव महान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
उषा काल में जब तुम l उदय चल आते l तब सब दर्शन पाते l
फैलाते उजीआरा l जागता तब जग सारा l करे तब सब गुण गान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
भूचर जलचार खेचार l सब के हो प्राण तुम्ही l सब जीवो के प्राण तुम्ही l
वेद पुराण भखाने l धर्म सभी तुम्हे माने l तुम ही सर्व शक्तिमान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
पूजन करती विशाएं l पूजे सब एक पार l तुम भुवनो के प्रतिपाल l
ऋॐ जय सूर्य भगवान l जय हो तिनकर भगवान l
जगत के नेत्र स्वरूपा l तुम हो त्रिगुणा स्वरूपा l धरता सबही सब ध्यान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
सारथी अरुण है प्रभु तुम l श्वेता कमालाधारी l तुम चार भुजा धारी l
अश्वा है साथ तुम्हारे l कोटि किराना पसारे l तुम हो देव महान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
उषा काल में जब तुम l उदय चल आते l तब सब दर्शन पाते l
फैलाते उजीआरा l जागता तब जग सारा l करे तब सब गुण गान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
भूचर जलचार खेचार l सब के हो प्राण तुम्ही l सब जीवो के प्राण तुम्ही l
वेद पुराण भखाने l धर्म सभी तुम्हे माने l तुम ही सर्व शक्तिमान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
पूजन करती विशाएं l पूजे सब एक पार l तुम भुवनो के प्रतिपाल l
ऋतुएं तुम्हारी दासी l तुम शशक अविनाशी , शुभकारी अंशुमान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
एं ॐ जय सूर्य भगवान l जय हो तिनकर भगवान l
जगत के नेत्र स्वरूपा l तुम हो त्रिगुणा स्वरूपा l धरता सबही सब ध्यान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
सारथी अरुण है प्रभु तुम l श्वेता कमालाधारी l तुम चार भुजा धारी l
अश्वा है साथ तुम्हारे l कोटि किराना पसारे l तुम हो देव महान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
उषा काल में जब तुम l उदय चल आते l तब सब दर्शन पाते l
फैलाते उजीआरा l जागता तब जग सारा l करे तब सब गुण गान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
भूचर जलचार खेचार l सब के हो प्राण तुम्ही l सब जीवो के प्राण तुम्ही l
वेद पुराण भखाने l धर्म सभी तुम्हे माने l तुम ही सर्व शक्तिमान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
पूजन करती विशाएं l पूजे सब एक पार l तुम भुवनो के प्रतिपाल l
ऋतुएं तुम्हारी दासी l तुम शशक अविनाशी , शुभकारी अंशुमान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
तुम्हारी दासी l तुम शशक अविनाशी , शुभकारी अंशुमान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
किराना पसारे l तुम हो देव महान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
उषा काल में जब तुम l उदय चल आते l तब सब दर्शन पाते l
फैलाते उजीआरा l जागता तब जग सारा l करे तब सब गुण गान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
भूचर जलचार खेचार l सब के हो प्राण तुम्ही l सब जीवो के प्राण तुम्ही l
वेद पुराण भखाने l धर्म सभी तुम्हे माने l तुम ही सर्व शक्तिमान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….
पूजन करती विशाएं l पूजे सब एक पार l तुम भुवनो के प्रतिपाल l
ऋतुएं तुम्हारी दासी l तुम शशक अविनाशी , शुभकारी अंशुमान ll
ॐ जय सूर्य भगवान ….

Comments

0 comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here